अपराधताजा ख़बरेंदिल्लीदेशपटनाबिहारब्रेकिंग न्यूज़मुजफ्फरपुरराजनीतिराज्य
Trending

मुजफ्फरपुर जिले के औराई में आधा दर्जन से अधिक निजी नर्सिंग होम को बंद करने का नोटिस

 

TEAM IBN-मुजफ्फरपुर जिले में स्वास्थ्य विभाग से निबंधित नर्सिंग होम एवं अस्पताल प्रदूषण फैला रहे हैं ।इन्होंने प्रदूषण नियंत्रण विभाग से प्रमाण पत्र नहीं लिया है इस पर मुजफ्फरपुर सिविल सर्जन कार्यालय ने कार्रवाई शुरू कर दी है सीएस डॉक्टर यूसी शर्मा ने पूरे जिले में  212 नर्सिंग होम और अस्पतालों को बंद करने का आदेश दिया है। सभी के संचालक को सिविल सर्जन कार्यालय ने पत्र भेज दिया और संबंधित थाने को भी इसकी सूचना दी गई है ।रोक के बाद अगर कोई संस्थान चालू मिला तो उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई जाएगी। जिसमें औराई में कई वैध और अवैध नर्सिंग होम बिना कोई सर्टिफिकेट और प्रदूषण नियंत्रण विभाग से प्रमाण पत्र लिया हुए नर्सिंग होम चला रहे हैं इन सभी को बंद करने का नोटिस दिया गया है ।औराई में निजी नर्सिंग होम वालों में हड़कंप मचा हुआ है सभी कार्रवाई के डर से सहमे हुए हैं ।जिसमें औराई थाना क्षेत्र में (1)जीवन हॉस्पिटल औराई ,(2)न्यू हरिओम नर्सिंग होम औराई,(3) आरबी हेल्थ केयर औराई ,(4)पी पी मेमोरियल हॉस्पिटल औराई(5) शाही हॉस्पिटल औराई सहित आधा दर्जन निजी नर्सिंग होम जो औराई में स्थित है उन्हें बंद करने का नोटिस भेजा गया है। रोक के बाद और कोई संस्थान चालू मिला तो उसके खिलाफ संबंधित क्षेत्र के थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई जाएगी।

सिविल सर्जन डॉक्टर यूसी शर्मा ने बताया कि राज्य प्रदूषण नियंत्रण पार्षद ने मानक पर खरा नहीं उतरने वाले अस्पतालों को बंद कराने को कहा है ।संचालक संबंधित प्रमाण पत्र दे ।उसकी जांच करने के बाद ही संचालन की अनुमति दी जाएगी

 

नर्सिंग होम और निजी अस्पतालों के संचालन के लिए विभिन्न सर्टिफिकेट की होती है जरूरत

अस्पताल और नर्सिंग होम संचालन के लिए सिविल सर्जन कार्यालय से लाइसेंस ,बायोमेडिकल वेस्ट का अनापत्ति प्रमाण पत्र, अग्निशमन सुरक्षा प्रमाणपत्र और प्रदूषण विभाग से सर्टिफिकेट लेना होता है। इसके साथ ही जब निजी अस्पताल का संचालन किया जाए तो पंजीकरण, उपलब्ध इलाज , फिस का डिस्प्ले अनिवार्य रूप से होना चाहिए। क्लीनिक में इलाज करने वाले चिकित्सक के नाम ,पंजीकरण संख्या, उपलब्ध इलाज तथा मरीजों से ली जाने वाली फीस आदि को बोर्ड पर डिस्प्ले करना अनिवार्य है। इसमें न्यूनतम मानकों के अनुसार इंफ्रास्ट्रक्चर ,कर्मचारी ,दवाइयां, उपकरण तथा सहायक सेवाएं और रिकॉर्ड रखना भी अनिवार्य है। मापदंड के तहत क्लीनिक में मरीजों उनके स्वजन तथा स्टाफ आदि को संक्रमण से मुक्त रखने के लिए बायो मेडिकल वेस्ट का सही निष्पादन होना जरूरी है।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
INDEPENDENT BIHAR NEWS